ynath poems "भारत की गरिमा" (कविता)

ynath poems                              

                 "भारत की गरिमा" (कविता)

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के कांटे बोते हैं।
भारत की गरिमा को ठेस पहुचाते,
यह पडोसी हमको आंख दिखाते हैं।।

हम दोस्ती का हाथ बढाते,
वो पीट पर खंजर चलाते हैं।
समझे हमको  कमजोर,
डराकर जमीं हमारी हथियाना चाहते हैं।।

शांति का प्रतीक,यह धरोहर हमारी,
हम दुश्मन को अपना दोस्त बनाते हैं।
है वर्चश्व फैला सम्पूर्ण विश्व मे,
हम शांतिदूत कहलाते हैं।।

पडोसी दुश्मन की गुस्ताखियां,
कब तक सहते,
हम भी एक दिन हथियार उठाते हैं।
है गुलामी की तोडी जंजीरे हमने,
दुश्मन का खून अब हम बहाते हैं।।

प्यार की भाषा वो न जाने न वो समझे,
शहीद वीर जवान हमारे हो जाते हैं।
अब उठ खडे हुये हम,
बंदुको की भाषा हम बोलने जाते हैं।।

नही सुधरने को तैयार,
करते छिपकर वार,
गलती खुद की नही बतलाते हैं।
हमने यह निश्चय किया,
सरहद पर हम भी, 
खून की होली खेलने जाते हैं।।

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के कांटे बोते हैं........                                                      
                                               योगेन्द्र नाथ


***********************************************************************
English Translation

                                         "The dignity of India" (poem)

We speak the language of love,
They sow thorns of hate.
Harm the dignity of India,
These neighbors show us the eyes.

We extend a hand of friendship,
They run a dagger on Pete.
Consider us weak,
Afraid, the land wants to grab us.

This heritage of ours, a symbol of peace,
We make the enemy our friend.
Pride has spread all over the world,
We are called peacekeepers.

Mistakes of neighboring enemies,
For how long,
We also take up arms one day.
We break the chains of slavery
We now shed the enemy's blood.

Don't understand the language of love, don't know it
Martyred soldiers become our soldiers.
Now we stand
We go to speak the language of weapons.

Not ready to improve,
Secretly attack
Do not tell the mistake itself.
We decided that,
We too on the outskirts
Go to play Holi of blood.

We speak the language of love,
They sow thorns of hate ........
                                                Yogendra Nath



*******************************************************************************

ynath poems "कलमकार" (कविता)

ynath poems

                                      "कलमकार" (कविता)


जो कोई कलमकार होता है।
कहीं ना कहीं गुनाहगार होता है।
गुनाह बस इतना,
सबको अपने जैसा समझ लेता है।।

राज छिपे होते हैं गैरों में गहरे,
अनजान बनकर परखना भुला देता है।
छिपा तो लेता है कभी जख्म अपने,
बहुत ज्यादा कभी हंसा देता है।।

ढूंढने वाले ढूंढते हैं उसमें कमियां,
अनजाने में ही सही,
कभी ना कभी बता देता है।
दिल की गहराइयों में डुबोकर,
कलम अपनी चला ही देता है।।

नज़रे बहुत होती है जमाने की, 
मुस्कुराने की थोड़ी दवा रख लेता है।
सीखे हुए अल्फ़ाज़, पढ़े हुए जिंदगी के पन्ने,
स्याही से फैला कर कुछ सिखा देता है।।

नई उम्मीद के साथ,
वो रोज नए ख्वाब लाता,
देख कर उसको लगता नहीं,
पतझड़ में भी सुगंधित महक फैला देता है।
बर्दाश्त की सीमा किस हद तक,
जिंदगी के पन्नों पर रंग देता है।। 

समझने वाले समझ ही जाते हैं,
जो दर्द के करीब होता है।
छिपा तो लेता है जो उसे है छुपाना,
चांद में दाग है कहकर,
वही दिखा देता है।।

मुस्कुराकर सह लो जीवन के गम,
रास्ता समझ ना आए,
फिर भी दिखा देता है ।
                                                  योगेंद्र नाथ



************************************************************************
English Translation


                                    "Penman" (poem)


Whoever is a Penman
It is wrong somewhere.
The crime is just this,
Everyone considers himself

The secret is hidden deep in the garage,
Becoming ignorant forgets to test.
He sometimes injures himself,
Sometimes laughs a lot.

Searchers find faults in it,
For the same reason,
Sometimes it tells.
Immersed in the depths of the heart,
The pen keeps on driving.

 The world has a lot of eyes,
Keeps some medicine to smile.
Learn letters, read pages of life,
Spreading with ink, teaches something.

With renewed hope,
He brings new dreams every day,
He does not feel seeing it
It also spreads a fragrant aroma in the fall.
To what extent can tolerance
Shades the pages of life.

Only those who understand
Which is closer to pain.
Hides what he has to hide
Saying that the moon is stained,
He shows.

Smile and bear the sorrow of life,
Do not understand the way,
Still shows.
                                                  Yogendra Nath





*********************************************************************************

ynath poems "तेरे इश्क में" (कविता)

ynath poems

                     "तेरे इश्क में" (कविता)

इस सावन हर बार, 
थम जाता हूं। 
तेरे इश्क में यारा,  
रम जाता हूं।। 

तुम रूको ना रूको मेरे लिए, 
उस रास्ते से गुजर जाता हूं। 
तुम समंदर हो इश्क का, 
मैं ओझल वो किनारा हूं।।

नजर तेरी मुझ पर पड़े ना पड़ें,
जमाने का टूटा तारा हूं। 
कहते हैं लोग दीवाना है ,खुश हूं, 
तेरे नाम से पहचाना जाता हूं।। 

जिस्म की हर धड़कन 
तेरा नाम लेती है कभी, 
अपनों से थोड़ा बेगाना हूं। 
एक निगाह जब पड़ती है मुझ पर,
तभी वह हसीन पल जी लेता हूं।। 

यह इश्क नहीं आसान, समझता हूं मैं,
चलना तो है, कभी थोड़ा झुलस जाता हूं। 
तुम नदी बहती चलती हो,
खुशनुमा मोड़ों से गुजरती हो, 
तकदीर है मेरी,
तुम्हें बेपनाह इश्क करता हूं।।

यह जुनून मोहब्बत का, 
अधूरा ही सही, 
तुम खुश रहो यह दुआ करता हूं। 
इस सावन हर बार 
थम सा जाता हूं .....
                               योगेंद्र नाथ





*******************************************************************************
English Translation

                                             "In your love" (poem)


This time every spring,

I stop.

Dude in love with you

I get lost.



You don't stay for me

I go through that path.

You are the ocean of love,

I am that edge



Don't look at me

I am the broken star of the world.

People say that I am crazy, happy,

I am known by your name.



Every beat of the body

Sometimes she takes your name,

I am a little unconscious of my loved ones.

When you look at me,

That's when I live a happy moment.



This love is not easy, I understand,

I have to walk, sometimes I get scorched.

You are a river that flows,

Go through a pleasant turn,

Destiny is mine

Love you easily



This passion of love,

Incomplete only,

Pray you be happy

This time every spring,

I stop .....

                                Yogendra Nath




***************************************************************************

ynath poems "आजादी की महक" (कविता) Independence Day August 15

ynath poems
                                   
                                               Independence Day August 15
                  
 "आजादी की महक" (कविता)

आजादी की महक,
वतन के कोने-कोने तक महकी।
खून बहाया शहीदो ने, 
तब जाके आजादी की चिडियां चहकी।।

सालो तक गुलामी की जंजीरे, 
तन-मन धायल करती, 
कई हसरते पास हमारे थी बाकी।
क्रांति का बिगुल बजा,
लगी चिंगारी स्वतंत्रता की।।

"इंकलाब जिन्दाबाद" के नारे गुंजे,
बस एक तमन्ना आजादी थी सबकी।
अत्याचार जुल्म का प्रहार बढा,
मौत हर गली-मोहल्ले से झाकी।।

कभी तोपो से उडाया,कभी फांसी चढाया,
न परवाह की  हमने जान गवाने की।
कितने वीरो ने हंसते-हंसते गोलियां खाई,
आंधी बन तोडी जंजीरे गुलामी की।।

आजादी का जश्न अधूरा, 
उन वीरो को नमन किये बिना,
धडकती हैं हर धडकन मे  लहरे, देशप्रेम की।
आजाद भारत विकसित भारत का, 
वो सपना,तिंरगे की शान बढाये,
नजर हम पर दुनिया की।।

देशभक्ति का भाव हर दिल मे जागे,
मिट्टी यह शहीदो की।
हर कुर्बानी वतन के नाम,
सीमा पर तैनात खंडे,
उन पर हर भाव समर्पित हो, 
फैले घर-घर खुशबु आजादी की।।

आजादी की महक,
वतन के कोने-कोने तक महकी......
                                                   योगेन्द्र नाथ






**************************************************************************
English Translations
                                                     Independence Day August 15

                 "Smell of freedom" (poem)


Smell of freedom,

Smells from every corner of the country.

Shed blood of martyrs

Then the birds of freedom spread.



Chains of slavery for years,

Stretches the body,

We had many leftovers.

Played the bugle of revolution,

There was a spark of freedom.



Slogan of "Inquilab Zindabad"

Everyone had only one desire for freedom.

Torture atrocities increased

Death sprang from every street.



Sometimes he blows the artillery, sometimes hangs himself,

Neither did we think of losing our life.

How many brave people ate bullets

The storm broke the chains of slavery.



Celebration of independence incomplete,

Without paying tribute to those heroes

The idea of ​​patriotism is there in every moment.

Independent India of developed India,

That dream brings glory to life,

The world sees us.



Patriotism instills in every heart,

This soil is of the martyrs.

In the name of each sacrificial country,

We are posted on the border,

Every emotion is dedicated,

The fragrance is spreading from house to house.



Smell of freedom,

Smell in every corner of the country ……

                                                           Yogendra Nath




****************************************************************************

ynath poems "कुछ करना हैं"(कविता)

 ynath poems             

                    "कुछ करना हैं"(कविता)


कुछ करना हैं,
कुछ कर गुजरना हैं।
जिंदगी मे लडखडाये बहुत,
फिर भी न थकना हैं।।

आंधियां रूक-रूक कर ठोकर मारती,
बार-बार सम्भलना हैं।
जख्म न देखो कदमो के,
जख्मो संग चलते जाना हैं।।

क्या गिराएगी दुनिया हमको,
हर किसी से टकराना हैं।
मंजिल तो हैं मंजिल हमारी,
हर मुश्किल मे पा जाना हैं।।

ज्ञान का बीज हमने बोया,
जल्द ही पेंड बन जाना हैं।
जंड हमारी कोमल सही,
हवाओ के थपेडे खाकर,
मजबूती खुद मे बसाना हैं।।

तन्हा चलना आगे बढना,
राह मे न रूक जाना हैं।
वक्त की आंधी,
गिराने की कोशिश करती,
ढाल बन,हर चोट सह जाना हैं।।

कुछ करना हैं,
कुछ कर गुजरना हैं.......
                                                   योगेन्द्र नाथ



























************************************************************************
English Translation

         
      "Have to do something" (poem)


Have to do something,

Some taxes have to be passed.

Stagger a lot in life,

Still do not get tired.



The storm stops and stumbles,

Has to be handled repeatedly.

Don't look wound

Have to go with the wounds.



What will the world fall on us,

To bump into everyone.

The floor is our destination,

Have to get into every difficulty.



We sowed the seeds of knowledge,

Pend will be made soon.

The base is our soft right,

After the wind blows,

Strength has to be contained in itself.



Walking alone moving

Do not stop on the way.

Storm of time,

Tries to troll,

Be shield, bear every injury.



Have to do something,

Something has to be done …….

                                                    Yogendra Nath




















*********************************************************************************

ynath poems "भारत की गरिमा" (कविता)

 ynath poems


                    "भारत की गरिमा" (कविता)

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के बीज बोते हैं।
भारत की गरिमा को ठेस पहुचाते,
यह पडोसी हम को आंख दिखाते हैं।।

हम दोस्ती का हाथ बढाते,
वो पीट पर खंजर चलाते हैं।
समझे हम को कमजोर,
डरा कर जमीन हमारी हथियाना चाहते हैं।।

शांति का प्रतीक यह धरोहर हमारी,
हम दुश्मन को अपना दोस्त बनाते हैं।
है वर्चस्व फैला सम्पूर्ण विश्व मे,
हम शांति दूत कहलाते हैं।।

पडोसी दुश्मन की गुस्ताखियां कब तक सहते,
हम भी एक दिन हथियार उठाते हैं।
गुलामी की तोडी हैं जंजीरे हमने,
दुश्मन का खून अब हम बहाते हैं।।

प्यार की भाषा वो न जाने वो न समझे,
शहीद वीर जवान हमारे हो जाते हैं।
अब उठ खडे हुये हम,
बंदूकों की भाषा अब हम बोलने जाते हैं।।

नही सुधरने को तैयार,
करते छिपकर वार,
गलती खुद की नही बतलाते हैं।
हमने भी निश्चय किया,
सरहद पर हम भी खून की होली खेलने जाते हैं।।

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के बीज बोते हैं।
भारत की गरिमा को ठेस पहुचाते,
यह पडोसी हम को आंख दिखाते हैं.......

                                                                        योगेन्द्र नाथ















*****************************************************************************
English Translation

       
                                 "The dignity of India" (poem)


We speak the language of love,

They sow seeds of hatred.

Increasing India's dignity,

These neighbors show us the eyes.



We extend a hand of friendship,

They run daggers on Pete.

Consider us weak,

We want to grab land by intimidating us.



This heritage is a symbol of peace,

We make the enemy our friend.

Has spread dominance all over the world,

We are called peace messengers.



How long did the neighbors tolerate enemy goons,

We also take up arms one day.

We break the chains of slavery

We now shed the blood of the enemy.



They do not understand the language of love,

Martyred soldiers become ours.

Now we stand

Now we also speak gun language.



Not ready to improve,

Secretly attack

Do not tell yourself the mistake.

We also decided,

On the outskirts we also go to play Holi of blood.



We speak the language of love,

They sow seeds of hatred.

Increasing India's dignity,

These neighbors show us the eye …….



                                                                        Yogendra Nath



*****************************************************************************