ynathpoems "भगवान भी कहूंगा" (कविता )

ynathpoems

                             "भगवान भी कहूंगा" (कविता )

भगवान भी कहूंगा तुझे,
खुदा भी पुकारूगा।
मेरा कोई मजहब नही,
तेरा हूं तेरा रहूंगा
जमाने से क्या लेना मुझे,
किस नाम से बुलाता हैं,
मैं तेरा तु  मेरा बस यही चाहूंगा।
छोड दिया दुनिया को,
जब से ठोकर मुझे मारी,
अब तो तुझको मानूंगा।
दिखावे की इबादत नही आती,
बस तेरा नाम ही लेता हूं
अब तेरी दुनिया छोडना चाहूंगा।
कभी ना छोडना साथ मेरा,
रहना हर दम पास मेरे,
तुझे पाके सब पाया और क्या पाऊगा।
भगवान भी कहूंगा तुझे,
खुदा भी पुकारूगा.......
                                      योगेन्द्र नाथ








*****************************************************************************************************
English Translation

                 "God would also say" (Poem)

God will say you too,
I will cry out to God.
I have no religion
Thy am thy will be.
What do I have to take from the past,
By what name do we call
I would like you to be mine.
Left the world,
Ever since the world stumbled upon me,
I will accept you now
I do not pray to show,
I just take your name
Now I would like to leave your world.
Never give up with me,
Stay close to me all the time,
You will get everything and what you will get.
God will say you too,
I will cry out to God .......
                                       Yogendra nath







******************************************************************************************************


ynathpoems ''तंबाकू एक मीठा जहर'' (कविता) No_Tobacco_Day 31 MAY

ynathpoems

दोस्तो नमस्कार,आज मे एक छोटी सी कविता ऐसे मुद्दे पर लाया हूं जिसे समाज को,देश को एवं सम्पूर्ण विश्व को इस विषय पर जागृत करने की आवश्यकता हैं वो हैं मानव समाज को तंबाकू मुक्त रखने की। सारे विश्व मे हर साल लाखो लोग इसका शिकार होकर मौत की गोद मे सो जाते हैं तंबाकू मुक्त दिवस हर साल 31मई को मनाया जाता है इसी अवसर पर यह कविता प्रस्तुत हैं कोई गलती हो क्षमा माफी धन्यवाद 
                  
                    ''तंबाकू एक मीठा जहर'' (कविता)

तंबाकू एक मीठा जहर ,
जान-बुझकर क्यो अपनाता हैं।
छोड दे यह जहर की दुनिया,
हर रात के बाद सूरज नई सुबह लाता हैं.....
जीवन को जो खाक कर दे,
ऐसी तिली क्यो जलाता हैं।
कैंसर का साया शरीर पर पडे, 
ऐसी धुनी क्यो सुलगाता हैं।
हर चौराहे पर बिकता,मौत का यह शैतान,
खरीद रहे खुश होकर ,
गरीब हो या धनवान।
युवा पीढी भटक रही,भटक रहा संसार,
थाम लो हाथ अपनो का,
वापस उनको लाना हैं।
खोखला करता जीवन काया,
गले,मुख, पेट, आंत पर,
मौत बन छाता हैं।
छोड यह नशा,
नशा मुक्त समाज की, जागृत अवस्था लाना हैं। 
सब मिलकर एक होकर,
जागृति मिशन दुनिया मे चलाना हैंं।
सब तो अपने हैं प्यारे,
अपनो को सच्ची राह बतलाना हैं।
तंबाकू एक मीठा जहर ,
जान-बुझकर क्यो अपनाता हैं।
छोड दे यह जहर की दुनिया,
हर रात के बाद सूरज, नई सुबह लाता हैं.....
                                                              योगेन्द्र नाथ





*********************************************************************************
English Translation


Hello friends, today I have brought a short poem on such an issue which needs to awaken the society, the country and the whole world on this subject, that is to keep the human society tobacco free. Every year, millions of people all over the world fall prey to it and fall asleep in the lap of death. Tobacco-free day is celebrated on 31 May every year. On this occasion, this poem is presented, no mistake, sorry, thank you.

                 "Tobacco  a sweet poison" (Poem)

Tobacco  a sweet poison,

Why do they take on purpose?

Leave this world of poison,

The sun brings new dawn after every night .....

Whatever destroys life,

Why do you burn such a pot?

The shadow of cancer falls on the body,

Why does this smoke burn?

Sold at every crossroads, this devil of death,

Happy buying,

Poor or rich.

Young generation is wandering, the world is wandering,

Take than hand your of relatives,

Have to bring them back.

Life hollows out,

On the throat, mouth, stomach, intestine,

Death is an umbrella.

Except this drug,

Bring an awakened state of intoxication-free society.

All together,

Wakefulness missions are to be run in the world.

Everyone is dear,

You have to show the true way.

Tobacco a sweet poison,

Why do they take on purpose?

Leave this world of poison,

The sun brings new dawn after every night .....

                                                                         Yogendra nath




*******************************************************************************

ynathpoems "अंग दान महादान" (कविता)

ynathpoems

                 "अंग दान महादान" (कविता)

अंग दान महादान की शरण मे आओ।
मौत के बाद भी, किसी की जान बचाओ।।
मानवता का यह छोटा जरीया,
किसी के जीवन मे,कुसुम कमल खिलाओ।

पल-पल की, गिनती हैं अनमोल।
26 घंटो तक किडनी रहती,
वक्त थोडा तौल।
किसी के सांसो की, सांसे बन जाओ.....

अंग दान महादान की शरण मे आओ।

धडकते दिल की, धडकन देखो।
6 घंटो की यह हैं सौगात,
जीवन बुंदे बहती जाये, बडी गजब हैं यह बात।
धडकन को धडकते रहने दो,
खुशियो की बरसा करते जाओ.....

अंग दान महादान की शरण मे आओ।

आंखो की बाते ,आखो से सुंदर।
3 दिनो की हैं कहानी, 
बुझी है जिसकी दुनिया,
ज्योत जला दो अन्दर।
बादलो की गोद से ,सुबह की नई किरणे हैं बिखराओ.......

अंग दान महादान की शरण मे आओ।

मन मस्तिष्क मे, विचारो की ज्वाला।
20 मिनटो तक जुडती, इसकी माला।
विचारो काअन्नत सागर, 
फिर लहरो का तुफान जगाओ......

अंग दान महादान की शरण मे आओ।

शरीर मे फेफडो की ,बात निराली।
6 घंटो के बाद, इसकी झोली खाली। 
वक्त से पहले सम्भलना,
रूकी रूकी कस्ती का पलवार बन जाओ.....

अंग दान महादान की शरण मे आओ।

रब का दिया ्अमूल्य तुम्हारा जीवन।
धडकन पूरी करके ,छोड देता तुम्हारा तन।
दुनिया से रूकसत होकर भी, 
10 से 15 लोगो के जीवन को खुशहाल बनाओ....

अंग दान महादान की शरण मे आओ। 

हम भी जोडे ,जीवन फूलो की माला।
जीवन सुरक्षित रखे, ना जाये मधुशाला।
छोड दुनिया जाने के बाद,
परिवार का गौरव और बढाओ.....

अंग दान महादान की शरण मे आओ।
मौत के बाद भी, किसी की जान बचाओ.....

                                                                 योगेन्द्र नाथ







****************************************************
English Translation

         "Organ donation grand donation" (poem)

Come to the shelter of organ donation grand donation .
Even after death, save someone's life.
This little medium of humanity,
Feed safflower lotus in someone's life.

Counting moment by moment is priceless.
Kidney lived for 48 hours,
Weigh a little time
Become someone's breath

Come to the shelter of organ donation grand donation .

Look at the beating heart.
This is a gift of 6 hours,
Life goes on flowing, this thing is amazing.
Keep banging,
Keep on showering happiness .....

Come to the shelter of organ donation grand donation.

Eyes talk, beautiful with eyes.
This Story of 3 days has,
Whose world is extinguished,
Burn the flame inside.
From the lap of  the clouds, scatter the new rays of the morning…

Come to the shelter of organ donation grand donation .

In the mind, the flame of thoughts.
Connected for 20 minutes, its garland.
The ocean of thoughts,
Then wake up the storm of the waves ……

Come to the shelter of organ donation grand donation .

The matter of lungs in the body is unique.
After 6 hours, its bag is empty.
Handle prematurely,
Stop and be a rudder of the boat .....

Come to the shelter of organ donation grand donation .

Your life is worth God.
By beating, your body leaves.
Despite being free from the world,
Make 10 to 15 people feel happy ....

Come to the shelter of organ donation grand donation .

We also add, garland of life flowers.
Keep life safe, don't go to the bar
After leaving the world,
Increase family pride and .....

Come to the shelter of organ donation grand donation .
Even after death, save someone's life .....

                                                                 Yogendra Nath









****************************************************

ynathpoems "मैं ठीक हूं "(कविता)

ynathpoems

                       "मैं ठीक हूं "(कविता)

मैं ठीक हूं,अब जी रहा हूं
अपनी  जिन्दगी।
जो जीते थे हम कभी ,औरो के लिये,
साफ कर दी वो गन्दगी.......

सालो साल, 
बहा ले जा रही थी जो हवा,
कभी चट्टानो से टकराती,
घायल करती थी हर दफा,
लहूलुहान करती रही बार-बार,
होती रही फिर भी खफा
कुछ टुकडे हैं अभी भी बाकी ,
जिसकी करता हूं थोडी बन्दगी.....

मैं ठीक हूं,अब जी रहा हूं
अपनी  जिन्दगी.....

मिट्टी का हैं जिस्म,
मिट्टी जख्म भर हैं जाती .
जहरीली हवाओ ने रूख बदला,
अब वर्षा छम-छम हैं आती,
उधेड-बुन बहुत हो चुकी,
नई ताजगी की बाहर हैं आती,
खुली हवाओ मे सांसे लेता,
भर ली खुशियो से जिन्दगी........

मैं ठीक हूं,अब जी रहा हूं
अपनी  जिन्दगी....

अजीब पहरे बिठाये थे,
पल-पल अपने रास्तो मे।
गिरने-गिरने का डर रहता था,
जीवन के उलझे पहनावे मे।
समय की दुकान लगी थी,
हम डुबे रहे कितोबो मे।
वक्त हमारा भी आया,
रूखसत किये गमो को, बदल दी जिन्दगी.......

मैं ठीक हूं,अब जी रहा हूं
अपनी  जिन्दगी......

                                      योगेन्द्र नाथ
















*****************************************************************************
English Translation


              "I'm fine" (poem)

I'm fine, living now its,
My life.
Who would have won was ever for others, 
Cleaned up that mess…

 Yearlings,
Shedding was taking which wind,
Ever collides with rocks,
Wounded every time,
Repeatedly bled,
Nevertheless the gap was growing.
There are some pieces still left,
Whom I do little life .....

I'm fine, living now its,
My life...

Body of soil,
Soil wounds heal.
Poisonous winds changed their stand,
Now the rain comes
Thinking is enough ,
New freshness comes out,
Takes breath in the open air,
Life filled with happiness ........

I'm fine, living now its,
My life...

Had put strange guards,
Every moment in its path.
There was a fear of falling,
In the complicated clothes of life.
Time was in store,
We are drowning in Books.
Our time also came,
Life has been changed to blocked gum .......

I'm fine, living now its,
My life....

                                      Yogendra Nath






********************************************************************************


ynathpoems "मजदूर हूं साहब" (कविता)

ynathpoems

                 "मजदूर हूं साहब" (कविता)

मजदूर हूं साहब
मजदूरी ही तो करता हूं....
मेरे परिवार को दो रोटी देकर,
कहां चेन से सोता हूं।
नही चाहिये दुनिया की दौलत,
खून-पसीना बहा कर,थोडा कमा लेता हूं।।
गरीब होना कोई गुनाह तो नही,
गुरूर थोडा मुझमेॆ भी हैं,
फिर भी मन का दर्द छुपा लेता हूं।
खुद आधा पेट खाकर,
भर पेट बच्चो की भूख मिटाता हूं।। 
पेट तो भर जाता हैं,
बच्चो का तन नही ढाक पाता हूं।
रोटी के लिये, 
गाँव की मिट्टी छोड आता हूं।
मां-बाप के आंसु निकते हैं,
मेरी जुदाई पर,
थोडी कठोरता दिखा देता हूं।
गाँव की याद सीने मे दफन करके,
मां-बाप का चेहरा याद कर लेता हूं।
कडकती धूप,
शरीर का दर्द, तो अनदेखा कर देता हूं।
मजबूरी ने कंधे झुका दिये,
खाली पांव के जख्म नही सैख पाता हूं।
कभी घर वापसी की नौवत आ जाती,
गाँव की दूरिया, रास्ते की मजबूरीयां,
नही नापता हूं।
बस जाना है, अपनी झोपडी मे,
गाँव की मिट्टी मे,
यह जुनुन थोडा मैं भी भर लेता हूं।
मजदूर हूं साहब,
मजदूरी ही तो करता हूं....
                                                 योगेन्द्र नाथ



















*********************************************************************************
English Translation
  

       "I am laborer, sir" (poem)

I am a laborer sir,

I am only working .....

By giving my family two loaves,

Where do I sleep with peace?

Do not want the wealth of the world,

I earn a little by shedding blood and sweat.

Being poor is not a crime,

Vanity is also a little me,

Still, I hide the pain of my mind.

After eating half the belly myself,

Eat away the hunger of children all over.

The stomach is full,

I can not cover the body of children.

For bread,

I leave the soil of the village.

Parents tears come out,

Upon my separation,

I show a little rigor.

Remembering the village buried in the chest,

I remember the face of my parents.

Scorching sun,

I ignore the pain of the body.

The helplessness shook the shoulders,

I do not witness the wounds of empty feet

Sometimes the return of home would come,

Village distance, compulsions of way,

No you measure

Just have to go, in our hut,

In the soil of the village,

I also fill this passion.

I am a laborer,

I only do wages

                                                Yogendra nath   





















********************************************************************************













ynathpoems "Eid Mubarak" / "दुआओ का असर" (कविता)

ynathpoems

                " दुआओ का असर" (कविता)

सुना था बचपन मे  बुजूर्गो से,
दुआओ का असर होता हैं।
जिस पर रब की नजरे करम हो,
वो फिर कहा रोता हैं।
टुटी तकदीर भी सवारता हैं वो,
जिसके दिल मे,
हर दम रब होता हैं।
वो दुआ खाली नही जाती,
जिसमे रब की इबादत का असर होता हैं।
कितनी भी लाचारी,बेबसी हो,
दामन में,
रब का नाम लेना जन्नत से बढ कर होता हैं।
झोलीयां खाली हैं,
दुनिया मे सबकी लेकिन,
वो तो सबकी सुनता हैं।
दर्द बया कर दो,
कोई दर्द ना होगा पास,
दुआओ का असर ऐसा होता हैं।
सुना था बचपन मे  बुजूर्गो से,
दुआओ का असर होता हैं.....

                                      योगेन्द्र नाथ    





******************************************************************************
English Translation


                   "The effect of prayers" (poem)


Had heard from the elderly in childhood,

Prayers have an effect.

Who has the love of God,

He again cries.

They are also riding on the fate

In whose heart,

Every time God is there.

That prayer does not go empty,

Which has the effect of prayer of God.

No matter how helpless, helpless,

In an inner state,

Taking the name of the Lord is more than Paradise.

The bags are empty

But everyone in the world,

He listens to everyone.

Thank you pain,

No pain will pass

The effect of the supplications do so.

Had heard from the elderly in childhood,

Prayers have the effect .....

                                       Yogendra nath




























*****************************************************************************   

ynathpoems "मैं तेरा जीवन" (कविता)

ynathpoems

नमस्कार दोस्तो, आज मैं कविता के माध्यम से उस जीवन की भावनाओ व्यक्त करने की कोशिश कर रहा हूं की यदि एक सम्पूर्ण जीवन अपनी बात हम से कर पाता तो वो केसे करता उसी विचारो को, भावनाओ को दर्शाने की कोशिश किया हूं आप लोगो को पसंद आयेगी गलती की क्षमा धन्यवाद.

                  "मैं तेरा जीवन" (कविता)

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....
सांसो की डोर बंधी मुझसे,
धडके सबका मन।
मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....

मेरे बिना सबकी सांसे अधुरी।
धडकन की गुूज,मेरे बिना कहां पूरी।।
हर क्षण-क्षण मे, बनाता हूँ मैं तेरा तन.....

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....

मुझसे गूंजे, जन्म की तेरी किलकारी।
थम जाऊ अगर मैं,आ जाये रोने चिल्लाने की बारी।
सिसकती,बहकती,जाती धडकन थाम लु,
तो करें सब नमन....

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....

गोद मे सजा कर रखा, शरारतो को तेरी।
हर ठोकर मे पडती,वन्दे जरूरत मेरी।।
पल-पल देता खुशियां तुझको,बनाता तेरा चमन....

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....

जिस उम्र में, जोश उमंग से तु भरा।
कारनामे होते थोडे अनोखे,
लगता, अब मरा या तब मरा।।
आडे-टेढे विचारो को,नही करता कभी तु दफन......

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....
                                                                                                                                                                  

उम्र की बैसाखी,जब तेरे हाथो पर आती ।
चालाकी,होशयारी दिखाने की आदत,तेरी ना जाती।।
कितना-कितना साथ दिया,सहा मैने अपार तपन.....

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....

गहरी दलदल से निकाला,कितनी बार तुझे।
दर्द की थोडी बुंदे देकर,सुधारा कितनी बार तुझे।।
अब तो कद्र कर मेरी, थोडा मुझे दे सम्मान....

मैं तेरा जीवन,मैं तेरा जीवन....
                                                             योगेन्द्र नाथ (एड्वोकेट)





















*******************************************************************************
English Translation

Hello friends, today I am trying to express the feelings of that life through poetry that if a whole life could talk to us, then how would it have tried to show the same thoughts, feelings, you like people. Forgiveness of mistake will come. Thank you.

          "I am your life" (poem)


I am your life, I am your life….

Tied the chain of breaths

Heart of all

I am your life, I am your life….


Everyone's incompleteness without me.

Echo the heartbeat, where is it without me?

In every moment, I make your body….


I am your life, I am your life….


Knead me, cry your birth

 I will be tired if, I come, it's time to cry and cry.

Root of water, cynosure, steam stroke

So do all the salute…


I am your life, I am your life….


Lifted your lap, your mischief is yours.

Stop reading I every fit, person I need my,

You give happiness every moment, make thy world ...


I am your life, I am your life….


In ages, passion filled you.

The exploits are a little unique,

Now either seems dead.

You do not bury twisted thoughts ……


I am your life, I am your life….


Crutches of age, when it comes in your hand.

You could not have had a habit of showing your cleverness.

How much I supported, felt pain so much ...


I am your life, I am your life….


Removed from deep marshes, how many times did it.

How many times have you improved, giving you a little pain.

Now I respect you, give me some respect….


I am your life, I am your life….

                                                                    Yogendra Nath (Advocate) 







*******************************************************************************

ynathpoems "नटखट बचपन" (कविता)

    ynathpoems     


                        " नटखट बचपन "(कविता) 

नटखट बचपन, 
बहलाये सबका मन।
लडखडाये कदम,
सबके लिये अपना पन।
कोई नही पराया, 
सबसे मिलता प्यारा मन।
जिद्द में गुस्सा आता, 
झंझोड देता तन।
मुस्कुराहट में झडतें फूल,
महंक उठता सबका मन।
खोये रहते खुद मे कभी,
तलाशे नई उमंग।
सबको जानने की चाहत,
बनाते सबसे पहचान।
उछल-कूद का सारा आलम,
दिखाते अपनी शान।
आडे-तेडे शब्दो से खेले,
करते कभी नमन।
झंगडा रूठकर करते,
आंखे कभी होती नम।
माता-पिता के बिना ना रहते,
ढुंढते रहते हर दम।
नटखट बचपन, 
बहलाये सबका मन....

                                         योगेन्द्र नाथ (एडवोकेट)




















******************************************************************************
English Translation.
     

                         Naughty childhood (poem)


Naughty childhood,

Recreate everyone's mind

Staggering Step,

Own soul for everyone

No one else,

The most loving mind.

Stubbornly angry,

Jingling bodies.

Flowers smile,

Everybody's heart is rising

Ever lost in myself,

Discover new zeal

Everyone wants to know,

Creating the most identity.

All the bouncing,

Show your pride

Play with words

Salute sometimes.

The fight would have done by getting angry ,

Eyes are sometimes moist.

Do not live without parents,

All the time keep on searching.

Naughty childhood,

Recreate everyone's mind….

                                    Yogendra Nath (Advocate)




















******************************************************************************