ynathpoems "समाज को आईना दिखा दे" (कविता)


              "समाज को आईना दिखा दे" (कविता)

चलो समाज को थोडा आईना दिखा दे।
हम एक होकर, किसी को रास्ता दिखा दे।।
हर बार लडते बैठे है,धर्म-मजहब के नाम पर,
बिखरे मोती है यह,चलो एक सुंदर माला बना दे।

नफरतो की दीवारे और न उठाओ,
उन्नति भी तो है जरूरी,अब थोडा समझ जाओ।
सफलता की कोई सुंदर दिशा दिखा दे।
चलो समाज को थोडा आईना दिखा दे।

टुटे-फूटे परिवार हैं,हर रिश्ता रिश्तो से अनजान हैं,
जुबान बोलती हैं और कुछ,दिल थोडा बेईमान हैंं,
किसी बेचारे को, रिश्तो की एहमियत समझा दे।
चलो समाज को थोडा आईना दिखा दे।

है फर्ज हमारा वतन के काम आना,
क्या सही हैं हिंसा फैलाकर,
वतन की धरोहर को क्षति पहुचाना।
काश हम सब सोचे,
भारत को अखण्ड भारत हैं बनाना।
बडी कुर्बानीयो के बाद, मिली ये आजादी,
न लाये वापस, गुलामी का वो जमाना।।
ऐसे सोये नादानो को थोडा जगा दे।
चलो समाज को थोडा आईना दिखा दे........
                                                                 योगेन्द्र नाथ


******************************************************************************
English Translation

           "Show the mirror to society" (poem)


Let's show the society a little mirror.


We should unite and show someone the way.


Every time there are quarrels in the name of religion,


It is a scattered pearl, let's make a beautiful garland.



Do not lift the walls of hate


Progress is also necessary, now understand a little.


Show some beautiful direction of success.


Show the society a little mirror.



There are broken families, every relationship is oblivious to the relationship,


He speaks and some, the heart is a little dishonest,


Explain the importance of a relationship to a poor person.


Show the society a little mirror.



It is our duty to serve our country,


Is it right to spread violence,


Damage to the heritage of the country.


I wish we all thought


To make India a united India.


This freedom was attained after great sacrifices


Do not bring slavery back.


Such a mindless person has to wake up from sleep.


Let's show the society some mirror .....

                                                                 Yogendra Nath





******************************************************************************

ynathpoems. "एक वादा" (कविता)

ynathpoems
                                 "एक वादा" (कविता)

किया था जो वादा,वो निभा नही पाया,
यादे हैं दामन मे, जल्द निभाऊंगा।
वो बूढी माता के हाथो की रोटी,
भूला नही पाया,
कहा था मै दोबारा, जरूर आऊंगा।।

मक्के की रोटी, टमाटर की चटनी, 
दोबारा जरूर खाऊंगा।
वो प्यारे से गांव का रास्ता,
मै ना भूल पाऊंगा।।

वो सादगी, धुंधली नजरो की,
वो जुबान, मीठे अल्फाजो की ,
सोचा था कभी, उस और जरूर जाऊगा।
वो वादा मेरे जीवन पर, आज भी उधार है,
बार-बार राह देखता है कोई,
दिल मेरा थोडा बेताब हैं
बहुत जल्द उस राह पर, जाकर गुन गुनआऊंगा।।

जिंदगी की जद्दोजहद मे,ऐसा उलझा
जो उधार बाकी है जीवन पर, वो मुझे न सुझा
जल्द ही उनको, अनजानी सी हंसी देने जाऊगा।
पूरा करके वो वादा,दिल खुशियो से सजाऊंगा।।

उनके आशीर्वाद देने का अन्दाज, 
आज भी याद आता हैं।
वो चेहरे की झुर्रिया, नजरो की चमक, 
मन मेरा कही ढुढ नही पाता हैं।।
उस पल के मधुर एहसास को, मै न भूला पाऊंगा।

किया था जो वादा जो निभा नही पाया,
यादे हैं दामन मे जल्द निभाऊंगा.......
                                                         योगेन्द्र नाथ


****************************************************************************
English Translation


                 "A promise" (poem)

What was promised could not be fulfilled,

I remember i will finish it soon

Old Mother's Hand Bread,

Did not forget,

I said that I will definitely come again.


Maize bread tomato sauce,

I will definitely eat again.

That lovely way to the village,

I will not be able to forget.


The simplicity of the blurred eyes,

That tongue of the sweet alphabet,

Thought that I would definitely go to that side again.

That promise still owes to my life,

Who sees the path again and again

My heart is a little desperate

Very soon i will walk that way


In the struggle of life, such complexity

I do not recommend a loan left on life

Soon I will give them a little laugh.

By fulfilling that promise, I will decorate their hearts with joy.


The way to bless them,

Still remember

The wrinkles of that face, the glow of the eyes,

The mind cannot find me anywhere.

I will not forget the sweet feeling of that moment.


Promised that could not be fulfilled

I remember I will complete it soon.....

                                                         Yogendra Nath




************************************************************************

ynathpoems. "मेरे जीने के लिये" (कविता)

ynathpoems

                         "मेरे जीने के लिये" (कविता)

मेरे जीने के लिये, 
साथ अपना दे दो।
लडखडाकर गिर जाऊंगा,
हाथ अपना दे दो।।

बन्दिशे बहुत सह चुका,
अपनी भावनाओ को, 
मेरी भावना से जोड दो।
बदल सकता नही,
तकदीर मे लिखे अल्फाजो को,
एक किनारा हूं समंदर का,
तुम समंदर कर दो।।

बेवजह बदनामी को समेट रखा हूं,
तुम साथ देकर अपना, 
मेरे खाली आसमां को भर दो।
तुम्हारी दिवानगी, 
मेरी दिवानगी से कम तो नही,
मैं तो हर पल कहता हूं,
कभी तुम भी कह दो।।

आज के वक्त के हालात, 
कुछ अजीब सा बया करते हैं,
दिल तो प्यार के अगौस  मे हैं मगर, 
एक दरीया को समंदर से मिला दो।
मेरे जीने के लिये, 
साथ अपना दे दो......
                                       योगेन्द्र नाथ


*******************************************************************************
English Translation


          "To live for me" (poem)


For my life,

Give it with you

I will collapse

Give your hand.


The prisoner has endured a lot,

Your feelings,

Connect with my spirit.

Can't change

Write alphabet in your fortune,

I am an edge of the sea,

You make the sea.


I have kept the slander in mind,

You support yourself,

Fill my empty sky.

Your heavenly,

Not less than my madness

I say every moment,

Sometimes you also say


Things of today

They say something strange,

Heart is in the lead of love but

Meet a carpet with the sea.

For my life,

Give it with you ……

                                        Yogendra nath


********************************************************************************




ynathpoems "न जताओ अपनापन"(कविता)"एक्टर सुशांत सिंग राजपूत को श्रध्दांजलि"

 ynathpoems

                "न जताओ अपनापन"(कविता)

जलते-जलते राख बन गया,
लोग पुछते  हैं, आग लगी केैसे।

तप रहा था जब मन का हर कोना,
लोग कहते हैं मुस्कुराके तो दिखा वैसे।।

कोई गहरा जख्म,दिल मे घाव कर गया,
लोग पुछते हैे, तु रोया कैसे।

मन मे जब गमों की  बुन्दे बरसी,
 भिगी मेरी दिल की हर धडकन,
लोग पुछते हैं तु भिगा कैसे।

बहुत कोशिश की छिपा लु दर्द अपने,
छिपा न पाया,निकला दर्द बंद मुठ्ठी मे,
समेटे कोई रेत जैसे।

वो एकांत मे गुजारा वक्त, समेटकर रखा,
वो अंधकार था दोस्त मेरा,
सबसे प्यारा हो जैसे।

किसी का ख्याल न था दामन मे मेरे,
बे-तहशा पीडा का,समंदर मेरे पास था ऐसे।

कैसे बया करता, क्या गुजरी मुझ पर,
सब कुछ था पास,फिर भी मन था,
खाली-खाली जैसे।

बदल दी जिन्दगी की दिशा ऐसी,
मिट्टी की मूर्त टुटी हो जैसी,
पुछते है लोग,तु मायुस क्यो है ऐसे।

बदलो मे ढंकी थी,अंधकार की वो बदली,
जो नजर न आई,
अचानक लोग पूछते है यह हुआ कैसे।

तकदीर समेट रखी थी हाथो मे,
अपनी हिम्मत से,
लोग पुछते है इतना उडा कैसें।

न जताओ अपनापन, अपना कर फिर गिराया,
भूल गये, मुझे ठुकराया फिर रूलाया कैंसे।

जलते-जलते ऱाख बन गया,
लोग पुछते  हैं, आग लगी केैसे.....
                                               योगेन्द्र नाथ


*********************************************************************************
English Translation

            "Do not show familiar" (poem)


Burnt to ashes,

People ask how the fire broke out.


When every corner of the mind was burning,

People say if you smile then show it.


Some deep wounds in the heart

People ask, how did you cry?


When the rain of sorrow falls in the mind,

 Every beat of my heart,

People ask how did you get away.


I tried hard to hide my pain,

Unseen, fist ache,

Like some sand.


He spent time in solitude, wrapped,

That darkness was my friend,

Like the cutest.


Nobody thought of me,

I was like this in the forest of sorrow.


How would you say what happened to me

Everything was close, yet I had the mind,

Like empty.


Changed the direction of life in this way,

As the statue broke,

People ask, why are you like this?


The change was covered, that darkness changed,

That was not seen,

Suddenly people ask how this happened.


Fate fell into his hands,

With his courage,

People ask how many flew.


Do not be familiar, fall yourself again,

Forgot, rejected me and made me cry again.


Burnt to ashes,

People ask, how is the fire….

                                                    Yogendra Nath




************************************************************************





ynathpoems "अमर शहीद" (कविता)

ynathpoems

                          "अमर शहीद" (कविता)

अमर शहीदो की गाथा फिर सुनाई जाएंगी।
तिरंगे मे लिपटे होगे वीर सपुत,
फिर वाणी उनकी गाई जाएंगी।।

सरहदो पर वीरो की वीरता,
दुश्मन को मर गिराएंगी।
ये प्रतिज्ञा ले रखी,मातृभूमि की रक्षा खातिर,
दुश्मन का अस्तित्व मिटाएंगी।।

तपते रेगिस्तान की हो सरहद,
छाया न दुश्मन की घुसने पाएंगी।
हो बर्फ हिमालय की ऊंची चोटी,
खून से उनके लाल तिलक लगाएंगी।।

सीने मे है जोश भरा,
भारत माता की जय...भारत माता की जय,
अंतिम सांस तक दोहराएंगी।
चाल कितने भी चले दुश्मन,
तेरी करनी तुझको मिट्टी मे मिलाएंगी।।

है हमने भी ठानी,बुरी नजरो की नजर,
सरहदो के भीतर न घुसने पाएंगी।
सोच समझ कर कदम बढा ऐ दुश्मन,
तेरी सांसे भी तुझको धिक्कारेगी।।

हम तो मर मिटने आये,
तिरंगे को सीने लगाये,
शान से हमारी काया दफनाई जाएंगी।
अमर कहानी मे होगी शहीदो की गाथा,
बच्चे-बच्चे को सुनाई जाएंगी।।

भारत माता की शरण मे होगा,
हर बच्चा,फिर नई दिशा झिलमिल आएंगी।
तिरंगे मे लिपटे होगे वीर सपुत,
फिर वाणी उनकी गाई जाएंगी।।

अमर शहीदो की गाथा, 
फिर सुनाई जाएंगी.....
                                   योगेन्द्र नाथ



*****************************************************************************
English Translation


                "Immortal martyr" (poem)


The saga of the immortal martyrs will be heard again.

Veer son will be wrapped in tricolor

Then a voice will be sung for them.


Heroic valor on the border,

Will kill the enemy

It was resolved to protect the motherland,

Will destroy the enemy's existence.


Hot desert outskirts

Shadow will not be able to enter the enemy.

Ho ice is the highest peak of the Himalayas,

Blood will implant red vaccine on their forehead.


The chest is full of excitement,

Bharat Mata Ki Jai ... Bharat Mata Ki Jai

Will repeat till the last breath.

No matter how many enemies do the plot,

His actions will add him to the soil.


We are also determined, take care of evil eyes,

Will not be able to enter inside range.

Thinking furiously, my enemy

Your breath will also curse you.


We came to die

Chest the tricolor,

Our bodies will be buried with grace.

The martyr's story will be immortal,

Children will be heard.


Bharat will be in the shelter of Mother,

Every child, then a new direction will come.

Veer son will be wrapped in tricolor

Then a voice will be sung for them.


Saga of immortal martyrs,

Will be heard again .....

                                   Yogendra Nath


*****************************************************************************

ynathpoems "योग गुरू" (कविता) अंतरराष्ट्रीय योग दिवस ( 21जून 2020)

ynathpoems

                                            अंतरराष्ट्रीय योग दिवस ( 21जून 2020)

                        "योग गुरू" (कविता)

योग गुरू की धरती भारत,
विश्व को योग दीक्षा हैं देती।
स्वस्थ चित्त रहना हैं जरूरी,
सिध्दांत योग के है सिखलाती।।

प्राचीन संस्कृति का गौरव,
सदियो से योग जिज्ञासा हैं जगाती।
शरीर,मन,आत्मा योग की महिमा,
एक सूत्र मे जोड हैं देती।।

पतंजलि योग दर्शन ज्ञान विभूति,
एक रूप मे जुडने को हैं कहती।
वरदान मिला मानव जाति को,
रोगो से लडने की देती हैं शक्ति।।

सम्पूर्ण शरीर स्वस्थ होता,
दूर होती हर मानसिक लाचारी।
तन की हर टुटी बिखरी छाया,
योग अभ्यास से बनती है सवरती।।

समस्त शरीर का व्यायाम, 
मांसपेशियो को ताकतवर हैं बनाती।
तनाव,नींद,भूख, पाचन आदि की समस्या,
चुटकी मे हैं दूर भगाती।।

दुर्बल शरीर श्वसन रोगो की,
शक्ति क्षमता हैं सुधरती।
प्रतिरोधक ऊर्जा शनै-शनै, 
जागृत अवस्था मे हैं लाती।।

ध्यान योग मन मस्तिष्क को,
क्रोध तनाव से दिलाती हैं मुक्ति।
मन शांति का व्दार हैं खुलता,
निर्मल कोमल स्वस्थ मन करता हैं भक्ति।।

स्वस्थ्य रहे मानव जीवन,
योग दर्शन की पध्दति हैं सिखाती।
भारत वर्ष का गौरव ध्यान योग,
विश्व के कोने-कोने तक है पहुचाती।।

उदार भारत की संस्कृति,
सम्पूर्ण विश्व को एक परिवार है बनाती।
कोई नही जुदा हमसे, 
"वसुधैव कुटुम्बकम" को है अपनाती।।
  
योग गुरू की धरती भारत,
विश्व को योग दीक्षा हैं देती।
स्वस्थ चित रहना हैं जरूरी,
सिध्दांत योग के है सिखलाती.........

                                        योगेन्द्र नाथ


******************************************************************************
English Translation

                                                             World Yoga Day (21 June 2020)

                        "Yoga Guru" (poem)


Yoga guru's land India,

She initiates yoga to the world.

It is important to be healthy

The principle teaches yoga.


Pride of ancient culture,

Yoga creates curiosity from friends.

Glory of body, mind, soul yoga,

Add a thread.


Patanjali Yoga philosophy, Knowledge power,

She asks to join a form.

Got a boon

She gives strength to fight against diseases.


The whole body will be healthy,

Every mental helplessness goes away.

Every broken shadow of the body,

Yoga is practiced by practice


All body exercises,

Builds muscles.

Problems of stress, sleep, hunger, digestion etc.

Away in a pinch.


Respiratory diseases of the weak body,

Strength strength improves.

Resistivity energy slowly

She is in a waking state.


Mind to mind meditation yoga,

Anger provides relief from stress.

Opinion of peace is open,

Devotion is pure gentle healthy mind.


Healthy human life,

Teaching is the practice of yoga philosophy.

Pride of the year, meditation, yoga

Reaches every corner of the world.


Culture of liberal India,

Makes the whole world a family.

Make the whole world a family

Adopts "Vasudhaiva Kutumbakam".

  
Yoga guru's land India,

She initiates yoga to the world.

It is important to be healthy

The principle teaches yoga ……

                                                         Yogendra Nath




*********************************************************************************

ynathpoems ( Happy Fathers Day June 21)"मेरे पापा" (कविता)

ynathpoems 

                             Happy Fathers Day     

              "मेरे पापा" (कविता)  

मेरे पापा क्यो मेरे कोमल हाथो को ,
सौंप कर चले गये।
नादानी बचपन की वो धुंधली यादे,
सिराने मेरे रखकर क्यो सुला गये।।

अनजानी सी लगती थी यह दुनिया,
नाज़ुक कदमो से खुद चलना सिखा गये।
धुंधली-धुंधली सी सूरत आपकी,
यादो मे दस्तक देती,बार-बार रूलाती जाये।।

अधूरा-अधूरा सा जीवन हैं आपके बिन,
हर राह उन्नति की,बिखरी जाये।
न ही कोई शिकायत करूगा,
हर पल यादो मे साथ,मेरे रहते आये।।

दुनिया मे हो, आप सबसे प्यारे,
दूर रहकर भी मेरी प्ररेणा बनते आये।
बार-बार ठुकराया दुनिया ने,
आपकी यादो ने सहारा बन,
जख्मो को भरते आये।।

अब आपकी यादे है मेरा किनारा,
आप दूर है तो क्या हुआ,
हर रूप मे हिम्मत बढाते आये।
जो है मेरा जीवन,
तूफानो मे भी लहरो संग.
दूर किनारा दिखाये।।

मेरे पापा आपकी छबि मन मंदिर मे,
हर दम बसती जाये।
तुम तो हो ,हर दम साथ मेरे,
दुनिया का हर डर,फिर मुझे न सताये।।


खुशनसीबों में खुशनसीब है वो जिसके पिता होते साथ,
न फिर वो रोये।
अनमोल धरोहर है यह, जितना भी संजोकर रखो,
खुशियां दुगनी होती जाये।।

मेरे पापा क्यो मेरे कोमल हाथो को ,
सौंप कर चले गये।
नादानी बचपन की वो धुंधली यादे,
सिराने मेरे रखकर क्यो सुला गये.......
                                                            योगेन्द्र नाथ






**************************************************************************

English Translation


                    "My father" (poem)


My father my soft hands

Gone after handing over.

Blurred memories of Foolishness childhood,

Why were the pillows put to sleep with me?


This world looked like a stranger,

With delicate steps,

 He taught himself to walk.

Your blurry face


Knocks in memory,

Keep crying again and again.

A half-life is incomplete without you,

Every path should be scattered for progress.


Neither will anyone complain

I remember every moment, lived with me

You are the sweetest in the world

I kept getting inspired even after being away.


The world has repeatedly rejected,

Your memories become support

Wounds were healing.

Now you remember my side,


What happened when you are away

You got courage in every way

Which is my life,

Even in the storm, the shore appeared with waves.


My father is your image in the temple,

Keep settling every time.

You are with me all the time,

Never again fear the world, persecute me.


My father my soft hands

Gone after handing over.

Blurred memories of Foolishness childhood,

Why were the pillows put to sleep with me?

                                                        Yogendra Nath


=======================================================================

ynathpoems "हम ना शामिल होगे"(कविता)

ynathpoems
    

                                   "हम ना शामिल होगे"(कविता)

तेरी कहानी मे कभी,
हम ना शामिल होगे।
चले जाओ जितना भी दूर,
अब ना हम रोयेगे।।

बहुत हो चुकी, 
तेरे प्यार की दीवानगी,
तुम ना समझे,अब तो बस तन्हा होगे।
बेकसूर को कसूरवार बना दिया,
तेरे पहलु मे ,
अब हम ना रोयेगे।।

तुम्हारी हमारी जिन्दगी को, 
ख्वाब ही रहने दो,
दीवानगी हमारी, 
सीने से लगा रखेगे।
तुमसे अच्छा और भी होगा,
नई सुबह मे ,
नया पैगाम लिखेगे।।

बस रहने दो...बस रहने दो,
तुम्हारा प्यार,
अब नये जज्बात लिखेगे।
तेरी कहानी मे कभी,
हम ना शामिल होगे.....
                                      योगेन्द्र नाथ


******************************************************************************

English Translation

           "We Won't Join" (Poem)

Sometimes in your story,

We will not join it

go far away,

Now we will not cry.

Enough,

Crazy of your love,

You are not understanding, now you will be alone.

Blamed the innocent,

In your aspect,

Now we will not be able to sleep.

Your life to us,

Dream just let it be,

Our passion,

Will stick it on the chest.

There will be better than you,

In the new morning,

Will write a new message.

just let it be

your love,

Now new feelings will be written.

Ever in your story

We will not join it .....

                                       Yogendra Nath



====================================================================

ynathpoems "नीदं नही आंखो मे" (कविता)

ynathpoems
 
                                   "नीदं नही आंखो मे" (कविता)

नीदं नही आंखो मे,
न जाने किस ख्वाब का है इन्तजार।
न बेचेनी,न उदासी,
दिल मेरा हैं पहरेदार।।

ढुढ रही हैं आंखे जिनको,
वो धुंधला चेहरा शायद हैे जिम्मेदार।
बार-बार समझा लेता हूं खुद को,
फिर भी दिल मेरा हैं गद्दार।।

यादो मे परछाई तो है उसकी,
लेकिन कुछ बाते है मजेदार।
हर किसी मे उसका चेहरा,
तलाशने की आदत हैं बेशुमार।।

ढुढ लु कभी तो किसी को,
इस जालिम दुनिया मे,
दिल थोडा बेकरार।
प्यार की कस्ती मे बहते जाये,
हर वक्त उस पर है सवार।।

दिल की तमन्ना घर कर गई,
टुट गया है संसार।
नीदं नही आंखो मे,
न जाने किस ख्बाव का है इन्तजार.......
                                                              योगेन्द्र नाथ










*****************************************************************************
English Translation

               "Sleepy eyes" (poem)

Sleep not in the eyes,

Don't know what dream is waiting

No discomfort, no sadness,

My heart is the watchman.

What the eyes are looking for,

That blurred face is probably responsible.

I explain myself again and again,

Still my heart is malevolent.

In the memories, there is a shadow

But some things are fun.

Everyone in their face,

It is a habit to find out.

Sometimes find someone,

In this fake world,

Heart is a little desperate.

Flow in love,

The rider is on it all the time.

Heart's desire was done in the heart

The world is broken.

Sleep not in the eyes,

Do not know what luck is waiting …….

                                                               Yogendra Nath



****************************************************************************