ynathpoems "आत्मनिर्भरता भारत की" (कविता)

ynathpoems


                    "आत्मनिर्भरता भारत की" (कविता)

हम चले गली-गली,
आत्मनिर्भरता भारत की जगाने को।
खुद से पहले शुरूवात करे,
यह मिट्टी माथे लगाने को।।

बाते न बोले बडी-बडी,
केवल स्वदेशी अपनाने को।
विदेशी चीजो का दिखावा करने वाले,
क्यो कतराते स्वदेशी अपनाने को।।

कर्त्तव्य समर्पित हो अपना,
स्वदेशी गरीमा बचाने को।
सरहद से आती आवाज,
आत्मनिर्भरता की ज्योत जलाने को।।

कुछ देशवासी अनजान बैठे,
स्वदेशी पहचान बतलाने को।
गांव के हर कोने-कोने मे फैला,
देश हमारा,
फिर क्यो शर्माते देहाती कहलाने को।।

देशभक्ति ललचाने की चीज नही,
अपनाकर उसको,
जाये अपनापन जताने को।
झूठी-नकली चीजे विदेशो की ,
काम आती,शान हमारी गिराने को।।

हमारी आर्थिक स्थिति,
दलदल मे गिरती जाती,
मजबूर क्यो हम विदेशी अपनाने को।
शान हमारी इस मिट्टी से जुडकर,
चले शौर्य निष्ठा दिखलाने को।।

अब वो घडी आ चुकी,
एकता सूत्र मे बंधना हैं,
देश के काम आने को।
हम चले एक जुट होकर चले,
विदेशी गुलामी से मुक्ति पाकर,
नई आजादी का गीत गाने को।।

स्वदेशी अपनाकर हम चले,
विश्व मे तिरंगा लहराने को।
हर चीज हमारी अपनी हो,
विकास के पथ पर हम बढे,
नई पहचान बनाने को।।

हम चले गली-गली,
आत्मनिर्भरता भारत की जगाने को.....
                                                        योगेन्द्र नाथ




***************************************************************************
English Translation

  

             "India's self-sufficiency" (poem)


We walk on the road

To awaken India's self-reliance.

Before you start yourself,

To apply this soil on the forehead.



Words were not very big,

Only Indigenous has to be adopted.

Pretenders for foreign things,

Why adopt Indigenous



Duty to dedicate oneself,

To save from indigenous poverty.

The sound coming from the outskirts,

To kindle the flame of self-sufficiency.



Some countrymen sat unaware,

To share indigenous identity.

Is spread in every corner of the village,

The country is ours

Then why ashamed to be called a person of the village.



Patriotism is not an attachment

By adopting it,

Go to show yourself.

False-fake things from foreigners,

Use, glory to make us fall.



Our economic situation,

Fall into the swamp,

Why are we forced to adopt foreigners.

Pride connecting with our soil,

Let's go to show bravery.



Now that clock has arrived,

To unite in unity,

To help the country.

Let us go together

Free from foreign slavery,

To sing the song of new freedom.



We adopt Indigenous and we move

Tricolor wave in the world.

Everything is our own,

We move forward on the path of development,

To create a new identity.



We walk on the road

To awaken India's self-reliance .....

                                        Yogendra Nath







***************************************************************************

ynathpoems "वक्त" (कविता)

ynathpoems

    ynathpoems  "वक्त" (कविता)                            

जिंदगी के साथ-साथ,
वक्त चलता रहा।
वक्त ने सिखाये कई पाठ,
"मै गुरू हैं", वक्त ने कहा।।

वक्त के साथ सोच बदलती हैं देखा,
बुरे वक्त के हेरफेर मे,
अनदेखा करते हैं, लोग जहां।
जिंदगी के साथ-साथ वक्त चलता रहा,
बुनियाद कितनी खोखली,
वक्त ने दिखा कर कहां।।

कदम-कदम पर ठोकर देता,
सम्भल कर चलना हैं सिखलाता।
अपनापन जताने वाले, कितने अपने,
पहचान उनकी है दर्शाता,
डगर-डगर पर बिखरी बुंदे मिलती है जहां।।

सबसे खास तालमेल,
वक्त जिंदगी का,
समय सदुपयोग है बतलाता।
वक्त की यारी सबसे प्यारी,
साथ जुड कर चले हम,
जीवन उन्नत हर पल हैं जहां।।
थोडा सम्भल विचलित न कर दे,
कोई यहां।।

बन कर्जदार उसका,
बुरे वक्त मे जो साथ खडा।
सब समर्पित कर दे,
उसके खातिर जिसने दुनिया से लडा।।
वक्त की झोली हर दम भरती हैं जहां।

जिंदगी के साथ-साथ,
वक्त चलता रहा.....
                                                           योगेन्द्र नाथ



****************************************************************************
English Translation

         "Time" (poem)


With life,

time went by.

Time taught many lessons,

"I'm a teacher", Time said.



Thinking changes over time,

Manipulation of bad times,

Ignore people where

Time passed with life

How hollow is the foundation

Where did you see the time?



Tap step by step,

Teaches to handle

Who express themselves, how many,

His identity reflects,

Scattered bundles are found on daggers-daggers.



The most special synergy,

time Life,

Time tells how to use it properly.

Sweetest of all time,

Let us join together,

Life is advanced every moment.

Don't bother a bit,

Is anyone here



Be indebted to him,

Who stood by in bad times

Surrender everything

For him who fought the world.

The bag of time is filled with strength.



With life,

time went by.

                                                            Yogendra Nath




******************************************************************************


ynathpoems "उम्मीद मत करना" (कविता)

ynathpoems

                         "उम्मीद मत करना" (कविता)

उम्मीद मत करना मुझसे, 
की मै हंसा दूंगा।
दिल मे, दर्द ही दर्द हैं, 
अपनी बातो से शायद रूला दूंगा.....

गम मे डुबे रहने वालो से,
खुशी की तमन्ना नही करते,
दफन कर रखा हूं, 
खुद को कही,
कभी पुछोगे तो, 
फुर्सत मे बता दूंगा।
जिंदगी मे जिन्दा तो हूं लेकिन,
मुस्कुराने की वजह नही,
फिर भी मुस्कुरा दूंगा।।
उम्मीद मत करना मुझसे , 
की मै हंसा दूंगा......

हर फरमाइशे पूरी करने की, 
आदत छोड दी,
अब कुछ चाहोगे मुझसे, 
तो शायद इंकार कर दूंगा।
मत आजमाना मुझको ऐ दोस्त,
डरता हूं किसी को, 
अपने जैसा बना दूंगा।।
उम्मीद मत करना मुझसे , 
की मै हंसा दूंगा......

दूरिया बना कर रखना मुझसे,
मै तन्हा हूं, 
तुमको भी तन्हा बना दूंगा।
उम्मीद मत करना मुझसे, 
की मै हंसा दूंगा.......
                                                         योगेन्द्र नाथ



*****************************************************************************
English Translation
           
                  "Do not expect" (poem)

Don't expect me,

I will laugh

In the heart, pain is pain,

I will probably cry with my words….



Who are immersed in sorrow,

Don't wish for happiness

Buried,

Told myself,

If you ever ask

I will tell when the time comes.

I am alive in life but

No reason to smile

Still smiling

Don't expect me,

I will laugh



To fulfill every request,

Gave up the habit,

Now you want something from me,

Then I would probably refuse.

Don't try me my friend

Fear someone,

Don't make me like you

Don't expect me,

I will laugh



Stay away from me,

I am alone

I will not make you alone either.

Don't expect me,

I will laugh …….

                                                          Yogendra Nath






********************************************************************************

ynathpoems "हिम्मत के पेंड"(कविता)

ynathpoems
        
                            "हिम्मत के पेंड"(कविता)

मै शब्दो के नये बीज बोता हूं,
हिम्मत के पेंड उगाने को।
विश्वास की छाया छा जाये,
नये पत्तो की कहानी सुनाने को.....

एक पौधा तूफानो के थपेडे सहता,
अपनी जान बचाने को।
मजबूती की फिर धार हैं बनता,
मुश्किल चट्टानो से, 
लड कर बिखराने को।।
मै शब्दो के नये बीज बोता हूं,
हिम्मत के पेंड उगाने को.....

बहा न पाती नफरत की आंधी, 
धरती तडपती, 
जड को सीने लगाने को।
नन्हा सा जीवन लडता, 
लडता समंदर से,
कोई किनारा पाने को।।
मै शब्दो के नये बीज बोता हूं,
हिम्मत के पेंड उगाने को.....

कोमल पौधा बनता पेंड,
अपना हुनर दिखाने को।
देने वाला वो देता ही रहता,
न कोई फिकर, 
न कोई बात पछताने को।।
मै शब्दो के नये बीज बोता हूं,
हिम्मत के पेंड उगाने को......
                                                                योगेन्द्र नाथ 




*****************************************************************************
English Translation
  
                             "Tree of courage" (poem)


I sow new seeds of words,



To grow the trees of courage.

Let the shadow of faith flow,

To tell the story of new leaves .....



A plant with a storm,

To save your life.

Then there is an edge of strength,

Through the hard rocks,

To fight and spread.

I sow new seeds of words,

To grow the tree of courage….



The storm of hate cannot flow

Earth is suffering,

Got it from the chest.

Fight a short life,

Ladders from the sea,

To get the edge…

I sow new seeds of words,

To grow the tree of courage….



The tree is a soft plant,

To show her skills

He keeps giving, keeps giving,

No worries

Nothing to regret.

I sow new seeds of words,

To grow the trees of courage ……

                                                                 Yogendra Nath





***************************************************************************

ynathpoems "माफी" (कविता)

ynathpoems

                                 "माफी" (कविता)

माफी मांगना,
माफ कर देना है जरूरी।
शब्दो की हिचकिचाहट दूर कर,
इसके बिना जीवन धारा हैं अंधुरी।।

गलतफहमियो की कशमकश, 
दामन मे खंडी।
माफी न मांगे कोई,
अंहकार की उलझने और बढी।।
माफी मांगना,
माफ कर देना है जरूरी....

क्यो भूल जाता है इंसान,
माफी मांगना,
यह तो सम्मान की, जोडे हैं कडी।
ईर्ष्या, नफरत को परे रख,
मन शांति की, दुनिया इनसे जुडी।।
माफी मांगना,
माफ कर देना है जरूरी....

माफी देना किसी को, 
बडप्पन है दर्शाती।
टुटे रिश्तो को थाम लेने मे, 
यह काम है आती।।
माफी मांगना,
माफ कर देना है जरूरी.....

क्यो ऐसे विचारो की अग्नि,
खुद को खुद से है लडाती।
माफी देना माफ करना,
जो इस राह पर चलता,अनजानो के लिये,
आदर्श है बनाती।।
माफी मांगना,
माफ कर देना है जरूरी.....

तुम्हारे जीवन की कहानी,
वर्षो तक प्ररेणा रूप,
गाई है जाती।
माफी मांगना,
माफ कर देना है जरूरी....

                                                     योगेन्द्र नाथ



******************************************************************************
English Translation

                       "Apology" (poem)


Apologize,

It is important to forgive.

Remove the hesitation of words

The imperfect is a life stream without it.



Confusion of misunderstanding,

Stands nearby

No one should apologize,

Arrogance grew more confused.

Apologize ,,

It is important to forgive.....



Why does a person forget

Apologize,

It is an honor to add links.

Out of jealousy, malice

Peace of mind, a world connected to them.

Apologize ,,

It is important to forgive......



Forgive someone,

Indicates greatness.

To maintain a broken relationship,

This is work

Apologize,

It is important to forgive......



Why the fire of such thoughts,

Fights herself to herself.

Sorry sorry

Who walks this path, for the unknown,

Makes ideal.

Apologize,

It is important to forgive. .....



Story of your life,

Over the years, as inspiration,

Are sung.

Apologize,

It is important to forgive.....



                                                      Yogendra Nath



*******************************************************************************

ynathpoems "ये दूरिया" (कविता)

          "ये दूरिया" (कविता)

थम जा ऐ दिल की धडकन,
आज कोई अपना जुदा हुआ।
ये दूरिया बनी कैसी मजबूरियां,
मूड कर न देखा उसने, इतना खफा हुआ।।

एक पल मे जैसे, सब छिन गया हो,
जो था जिंदगी मे सबसे प्यारा,
वो हमसे दूर हुआ।
एक टक नजरे, उसको जाते देखती रही,
कदम न उठे मेरे, इतना बेबस हुआ।।

हिम्मत न कर पाया, उसको रोकने की,
गुनाह मेरा था या उसका,
यह सोचने पर मजबूर हुआ।
सालो से सजोये थे, जिस रिश्ते को,
एक क्षण मे, बिखर कर चुर-चुर हुआ।।

शांत हो कर रूका रहा,
दिल के तूफानो को, थामने चला।
क्या हुआ क्यो हुआ की, कशमाकश थी,
दिल मे था फिर एक पल,
तो देख लु उसको,
ये दूरिया ऐसी बढी,
दिल का हर कोना, गमजदा हुआ।।

बस अब दुआ करता हूं,
उसकी खुशियो की,अब क्या दूं उसको,
सब कुछ तो दे चुका
और बदनाम मै हुआ।
थम जा ऐ दिल की धडकन,
आज कोई अपना जुदा हुआ.......
                                                 योगेन्द्र नाथ


****************************************************************************
English Translation

                   "These Distances" (poem)


Stop my heart

Today someone got separated.

What distance did such compulsions create,

He did not look back and got so angry.


In a moment as if everything was taken away

He was the sweetest in life,

He got away from us.

One sight kept watching him go,

My feet did not get up, it was so helpless.


Could not dare to stop him,

Was my crime or his

This got me thinking.

The relationship that had been cherished for years,

Shattered in an instant.


Keep calm and stay

Went to stop the heart storms.

What happened because what happened?

There was a confusion in my heart,

I had one in my heart to see him again,

This distance grew like this,

Every corner of the heart was filled with sorrow.


Just pray now

Of his happiness, what should I give him now

Given everything

And I was notorious.

Stop my heart

Today someone got separated .....

                                                  Yogendra Nath



*************************************************************************

ynathpoems "तारीफे" (कविता)

ynathpoems


                      "तारीफे" (कविता)

तारीफे दिल से करो,
इसमे जाता क्या हैं।
कुछ पल की खुशियां तो हैं,
इसमे गम क्या हैं।।

कुछ मीठे शब्दो के मोती हैं यह,
इसमे खोता क्या हैं।
लुटाओ दिल खोल कर इसको,
इसमे लगता क्या हैं।।

अधेरो मे थोडी रोशनी दे दो,
उजालो का जाता क्या हैं।
खुश कर देना किसी को,कितना अच्छा,
इसमे सोचना क्या हैं।।

मुस्कान ओठो की,
महफिलो को रोशन हैं करती,
इसमे गलत क्या हैं।
तारीफे हैं करना,दिल मे खुशियां हैं भरना,
रूप अनोखा हैं यह,
तोडने मे मिलता क्या हैं।।

दिल की कहानी,दिल ही जाने,
पहचान बताकर करना क्या हैं।
रोते को हिम्मत भर दो,
भटके को राह बता दो,
इसमे रूकना क्या हैं।।

तारीफे दिल से करो,
इसमे क्या जाता हैं......
                                       योगेन्द्र नाथ 




*************************************************************************
 English Translation


                                 "Appreciate" (poem)


Appreciate it heartily

What goes into it

Some moments are happiness,

What's wrong with it



Some sweet words are pearls,

What are you missing in this?

Rob it openly,

What does it look like


Give some light in half,

What does light go for?

Make someone happy, so good,

What to think about this…



Smiling lips

 Brightens up a lot of people

What's wrong with

Praise, happiness fills the heart,

It is a unique form,

What do you get for breaking



Heart story, heart only,

What to do by identifying

Give courage to cry

Guide the traveler,

What's wrong with this ...



Appreciate it heartily

What goes into it ……

                                        Yogendra Nath



****************************************************************************

ynathpoems "मदिरा व्दार" (कविता)


            "मदिरा व्दार" (कविता)

भूल  कर सारी दुनिया को,
मदिरा व्दार पर मै चला।
छिपते-छिपाते नजरे चुराते,
अमृत प्याले को भरने चला।।

डगर-डगर पर बिखरी पडी,
सूरत निशानी की ज्वाला।
गम भूलाने का बहाना सुंदर,
दिल दामन मे थाम उस और चला।।

झिझक भोलापन मुख मण्डल पर,
मुठ्ठी मे पैसा भरा।
भरने ख्वाहिशों का पिटारा,
शोरगुल का नजारा देख थोडा जला।।

दो घुट अमृत बुंदे लेकर,
मधुर मुस्कान प्याला भरा।
कुछ पल मे दुनिया झुमी,
सिंह रूप धर अपने घऱ और चला।।

डगमगते-लडखडाते पैरो से,
धूल उडाते थोडा चिल्लाते,
मन मस्ती से भरा।
मन की ऐसी बलिहारी इतनी प्यारी,
जीवन अपना देने चला।।

बेसूद सी होती राहे,
गिरते पडते कदम ना कोई थमने बढा।
नफरत के तंज कानो पर पडते,
मन गिलानी से थोडा सना।।

सुन रखा था.....सुन रखा था,
मदिरा व्दार की राह हैं बुरी,
फिर भी बारम्बार चला।
मौत व्दार खोल खडी हाथ बढाये,
फिर भी चलता चला।।

भरी झूठी जीवन की झोली,
लादी सांसो की माला चला।
सब कुछ उजड गया तब,
ज्ञान दीप धीरे-धीरे जला।।

शरीर मन एक सुंदर मंदिर,
छोड मदिरा व्दार नमन करने चला।
मौत ने अपनी बेडी डाली,
हिम्मत साहस से उसको,
तोडने बढा।।

अब राह बताना भटको को,
मदिरा व्दार मौत बाजार,
कदमो को ना उस और चला।
पछताना पास रहता दामन मे,
सुंदर शरीर मन का थोडा चिंतन करके, 
उसको और सजा..... 

                                       योगेन्द्र नाथ



********************************************************************************

English Translation

  "Wine Vader" (poem)



Forgetting the whole world,


I walked to the liquor store.


Secretly stealing the sight,


He went to fill a cup of nectar.



Scattered on the road,


The flame of his signs.


Beautiful excuse to forget sorrow,


He stopped the heart a little and went away.



Nervous face,


Took a handful of money.


 Went to fill the dream box


Seeing the noise of commotion, I burnt a little.



With two choking nectar drops,


A lovely smile filled the cup.


In a few moments the world turned around,


Like a lion and went home.



With flowing legs,


Screaming a little dust,


Full of fun


Such a sacrifice of mind is so lovely,


Life went on its way.



No senses on the way


Nobody supported the falling steps.


The words of hate spread to the ears,


Mind full of hate.



Had listened ... kept listening,


The door to wine is the way to evil


Still continues.


The door of death is open, arms are extended


Still goes on.



The stuff of false life,


Lifted with a garland of breath.


Then everything was destroyed,


The lamp of knowledge slowly ignited.



Body mind a beautiful temple,


Stopped drinking, went to bow.


Death dropped its chain,


Him courageously


Went to break



Now I guide people,


Wine is the market of death


Do not move in this way.


Remorse stays nearby


Considering the beautiful body and mind,


Wake him up …… 

                                       Yogendra Nath





*********************************************************************************