ynathpoems "वक्त" (कविता)

ynathpoems

    ynathpoems  "वक्त" (कविता)                            

जिंदगी के साथ-साथ,
वक्त चलता रहा।
वक्त ने सिखाये कई पाठ,
"मै गुरू हैं", वक्त ने कहा।।

वक्त के साथ सोच बदलती हैं देखा,
बुरे वक्त के हेरफेर मे,
अनदेखा करते हैं, लोग जहां।
जिंदगी के साथ-साथ वक्त चलता रहा,
बुनियाद कितनी खोखली,
वक्त ने दिखा कर कहां।।

कदम-कदम पर ठोकर देता,
सम्भल कर चलना हैं सिखलाता।
अपनापन जताने वाले, कितने अपने,
पहचान उनकी है दर्शाता,
डगर-डगर पर बिखरी बुंदे मिलती है जहां।।

सबसे खास तालमेल,
वक्त जिंदगी का,
समय सदुपयोग है बतलाता।
वक्त की यारी सबसे प्यारी,
साथ जुड कर चले हम,
जीवन उन्नत हर पल हैं जहां।।
थोडा सम्भल विचलित न कर दे,
कोई यहां।।

बन कर्जदार उसका,
बुरे वक्त मे जो साथ खडा।
सब समर्पित कर दे,
उसके खातिर जिसने दुनिया से लडा।।
वक्त की झोली हर दम भरती हैं जहां।

जिंदगी के साथ-साथ,
वक्त चलता रहा.....
                                                           योगेन्द्र नाथ



****************************************************************************
English Translation

         "Time" (poem)


With life,

time went by.

Time taught many lessons,

"I'm a teacher", Time said.



Thinking changes over time,

Manipulation of bad times,

Ignore people where

Time passed with life

How hollow is the foundation

Where did you see the time?



Tap step by step,

Teaches to handle

Who express themselves, how many,

His identity reflects,

Scattered bundles are found on daggers-daggers.



The most special synergy,

time Life,

Time tells how to use it properly.

Sweetest of all time,

Let us join together,

Life is advanced every moment.

Don't bother a bit,

Is anyone here



Be indebted to him,

Who stood by in bad times

Surrender everything

For him who fought the world.

The bag of time is filled with strength.



With life,

time went by.

                                                            Yogendra Nath




******************************************************************************


No comments:

Post a Comment

please do not enter any spam link in the comment box.