ynath poems "भारत की गरिमा" (कविता)

 ynath poems


                    "भारत की गरिमा" (कविता)

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के बीज बोते हैं।
भारत की गरिमा को ठेस पहुचाते,
यह पडोसी हम को आंख दिखाते हैं।।

हम दोस्ती का हाथ बढाते,
वो पीट पर खंजर चलाते हैं।
समझे हम को कमजोर,
डरा कर जमीन हमारी हथियाना चाहते हैं।।

शांति का प्रतीक यह धरोहर हमारी,
हम दुश्मन को अपना दोस्त बनाते हैं।
है वर्चस्व फैला सम्पूर्ण विश्व मे,
हम शांति दूत कहलाते हैं।।

पडोसी दुश्मन की गुस्ताखियां कब तक सहते,
हम भी एक दिन हथियार उठाते हैं।
गुलामी की तोडी हैं जंजीरे हमने,
दुश्मन का खून अब हम बहाते हैं।।

प्यार की भाषा वो न जाने वो न समझे,
शहीद वीर जवान हमारे हो जाते हैं।
अब उठ खडे हुये हम,
बंदूकों की भाषा अब हम बोलने जाते हैं।।

नही सुधरने को तैयार,
करते छिपकर वार,
गलती खुद की नही बतलाते हैं।
हमने भी निश्चय किया,
सरहद पर हम भी खून की होली खेलने जाते हैं।।

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के बीज बोते हैं।
भारत की गरिमा को ठेस पहुचाते,
यह पडोसी हम को आंख दिखाते हैं.......

                                                                        योगेन्द्र नाथ















*****************************************************************************
English Translation

       
                                 "The dignity of India" (poem)


We speak the language of love,

They sow seeds of hatred.

Increasing India's dignity,

These neighbors show us the eyes.



We extend a hand of friendship,

They run daggers on Pete.

Consider us weak,

We want to grab land by intimidating us.



This heritage is a symbol of peace,

We make the enemy our friend.

Has spread dominance all over the world,

We are called peace messengers.



How long did the neighbors tolerate enemy goons,

We also take up arms one day.

We break the chains of slavery

We now shed the blood of the enemy.



They do not understand the language of love,

Martyred soldiers become ours.

Now we stand

Now we also speak gun language.



Not ready to improve,

Secretly attack

Do not tell yourself the mistake.

We also decided,

On the outskirts we also go to play Holi of blood.



We speak the language of love,

They sow seeds of hatred.

Increasing India's dignity,

These neighbors show us the eye …….



                                                                        Yogendra Nath



*****************************************************************************

No comments:

Post a Comment

please do not enter any spam link in the comment box.