ynath poems "तेरे इश्क में" (कविता)

ynath poems

                     "तेरे इश्क में" (कविता)

इस सावन हर बार, 
थम जाता हूं। 
तेरे इश्क में यारा,  
रम जाता हूं।। 

तुम रूको ना रूको मेरे लिए, 
उस रास्ते से गुजर जाता हूं। 
तुम समंदर हो इश्क का, 
मैं ओझल वो किनारा हूं।।

नजर तेरी मुझ पर पड़े ना पड़ें,
जमाने का टूटा तारा हूं। 
कहते हैं लोग दीवाना है ,खुश हूं, 
तेरे नाम से पहचाना जाता हूं।। 

जिस्म की हर धड़कन 
तेरा नाम लेती है कभी, 
अपनों से थोड़ा बेगाना हूं। 
एक निगाह जब पड़ती है मुझ पर,
तभी वह हसीन पल जी लेता हूं।। 

यह इश्क नहीं आसान, समझता हूं मैं,
चलना तो है, कभी थोड़ा झुलस जाता हूं। 
तुम नदी बहती चलती हो,
खुशनुमा मोड़ों से गुजरती हो, 
तकदीर है मेरी,
तुम्हें बेपनाह इश्क करता हूं।।

यह जुनून मोहब्बत का, 
अधूरा ही सही, 
तुम खुश रहो यह दुआ करता हूं। 
इस सावन हर बार 
थम सा जाता हूं .....
                               योगेंद्र नाथ





*******************************************************************************
English Translation

                                             "In your love" (poem)


This time every spring,

I stop.

Dude in love with you

I get lost.



You don't stay for me

I go through that path.

You are the ocean of love,

I am that edge



Don't look at me

I am the broken star of the world.

People say that I am crazy, happy,

I am known by your name.



Every beat of the body

Sometimes she takes your name,

I am a little unconscious of my loved ones.

When you look at me,

That's when I live a happy moment.



This love is not easy, I understand,

I have to walk, sometimes I get scorched.

You are a river that flows,

Go through a pleasant turn,

Destiny is mine

Love you easily



This passion of love,

Incomplete only,

Pray you be happy

This time every spring,

I stop .....

                                Yogendra Nath




***************************************************************************

No comments:

Post a Comment

please do not enter any spam link in the comment box.