ynathpoems "जिन्दगी के अल्फाज" (कविता)

ynathpoems

                      "जिन्दगी के अल्फाज" (कविता)

टुट-टुट कर जिन्दगी के,
अल्फाज सम्भालता हूं।
रूठी हुई तकदीर ये बता,
तुझे किस नाम से बुलाता हूं।।
फिर भी .......
तु कहा हैं किधर हैं,
मुस्कान तेरी खुद मैं क्यो सजोता हूं।

हिम्मत तेरी दस्तक देकर मुझे,
क्यो जगाती हैं।
कभी पास आती हैं,
कभी दूर चली जाती हैं।।
मै हैरान होकर देखता जाता हूं
फिर भी ........
कुछ पल सुनकर तेरी दस्ता,
खुद मे सीमट जाता हूं

है पैगाम तेरा क्या,
कभी सोचता हूं,
कभी खुद गुम हो जाता हूं,
मंजिलो की ठोकर,
तेरे होते हुये खाई इतनी हैं।।
गमजदा होकर भी सुकुन से सो जाता हूं
फिर भी .....
तु कभी यह तो बता दे जिंदगी,
तु चाहती क्या हैं।

तेरे लिये जीता हूं तेरे लिये मरता हूं,
फिर भी बार-बार रूठ जाती हैं।।
अब तो हद हो गई तेरी ,
थम जा रूक जा,
मै भी थोडा ख्यालो की गोद मे सो जाता हूं
फिर भी ........
टुट-टुट कर जिन्दगी के,
अल्फाज सम्भालता हूं.........
                                           योगेन्द्र नाथ




****************************************************************************
English Translation


                                     "Life's alphas" (poem)

Bitterly about life,

I take care of alphabets.

Tell me it's a broken fortune

By what name do I call you?

still .......

Where r u

Why do I decorate myself?



Dare you knock me

Why you wake up

Sometimes come close,

Sometimes she walks away.

Makes me wonder

still ........

Your moment, your hand, listening

Go to the seams



What is your message

sometimes I think

Sometimes I lose myself,

Tap on the floor,

There are many trenches.

I still sleep in peace

still .....

Sometimes you can tell this life,

what do you want



Live for you i die for you

Yet again and again I get angry.

Now your limit has been reached,

Stop it stop

I sleep on some

still ........

Bitterly about life,

Take care of Alphas ………

                                            Yogendra Nath






******************************************************************************






No comments:

Post a Comment

please do not enter any spam link in the comment box.