ynath poems "भारत की गरिमा" (कविता)

ynath poems                              

                 "भारत की गरिमा" (कविता)

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के कांटे बोते हैं।
भारत की गरिमा को ठेस पहुचाते,
यह पडोसी हमको आंख दिखाते हैं।।

हम दोस्ती का हाथ बढाते,
वो पीट पर खंजर चलाते हैं।
समझे हमको  कमजोर,
डराकर जमीं हमारी हथियाना चाहते हैं।।

शांति का प्रतीक,यह धरोहर हमारी,
हम दुश्मन को अपना दोस्त बनाते हैं।
है वर्चश्व फैला सम्पूर्ण विश्व मे,
हम शांतिदूत कहलाते हैं।।

पडोसी दुश्मन की गुस्ताखियां,
कब तक सहते,
हम भी एक दिन हथियार उठाते हैं।
है गुलामी की तोडी जंजीरे हमने,
दुश्मन का खून अब हम बहाते हैं।।

प्यार की भाषा वो न जाने न वो समझे,
शहीद वीर जवान हमारे हो जाते हैं।
अब उठ खडे हुये हम,
बंदुको की भाषा हम बोलने जाते हैं।।

नही सुधरने को तैयार,
करते छिपकर वार,
गलती खुद की नही बतलाते हैं।
हमने यह निश्चय किया,
सरहद पर हम भी, 
खून की होली खेलने जाते हैं।।

हम प्यार की भाषा बोलते,
वो नफरत के कांटे बोते हैं........                                                      
                                               योगेन्द्र नाथ


***********************************************************************
English Translation

                                         "The dignity of India" (poem)

We speak the language of love,
They sow thorns of hate.
Harm the dignity of India,
These neighbors show us the eyes.

We extend a hand of friendship,
They run a dagger on Pete.
Consider us weak,
Afraid, the land wants to grab us.

This heritage of ours, a symbol of peace,
We make the enemy our friend.
Pride has spread all over the world,
We are called peacekeepers.

Mistakes of neighboring enemies,
For how long,
We also take up arms one day.
We break the chains of slavery
We now shed the enemy's blood.

Don't understand the language of love, don't know it
Martyred soldiers become our soldiers.
Now we stand
We go to speak the language of weapons.

Not ready to improve,
Secretly attack
Do not tell the mistake itself.
We decided that,
We too on the outskirts
Go to play Holi of blood.

We speak the language of love,
They sow thorns of hate ........
                                                Yogendra Nath



*******************************************************************************

ynath poems "कलमकार" (कविता)

ynath poems

                                      "कलमकार" (कविता)


जो कोई कलमकार होता है।
कहीं ना कहीं गुनाहगार होता है।
गुनाह बस इतना,
सबको अपने जैसा समझ लेता है।।

राज छिपे होते हैं गैरों में गहरे,
अनजान बनकर परखना भुला देता है।
छिपा तो लेता है कभी जख्म अपने,
बहुत ज्यादा कभी हंसा देता है।।

ढूंढने वाले ढूंढते हैं उसमें कमियां,
अनजाने में ही सही,
कभी ना कभी बता देता है।
दिल की गहराइयों में डुबोकर,
कलम अपनी चला ही देता है।।

नज़रे बहुत होती है जमाने की, 
मुस्कुराने की थोड़ी दवा रख लेता है।
सीखे हुए अल्फ़ाज़, पढ़े हुए जिंदगी के पन्ने,
स्याही से फैला कर कुछ सिखा देता है।।

नई उम्मीद के साथ,
वो रोज नए ख्वाब लाता,
देख कर उसको लगता नहीं,
पतझड़ में भी सुगंधित महक फैला देता है।
बर्दाश्त की सीमा किस हद तक,
जिंदगी के पन्नों पर रंग देता है।। 

समझने वाले समझ ही जाते हैं,
जो दर्द के करीब होता है।
छिपा तो लेता है जो उसे है छुपाना,
चांद में दाग है कहकर,
वही दिखा देता है।।

मुस्कुराकर सह लो जीवन के गम,
रास्ता समझ ना आए,
फिर भी दिखा देता है ।
                                                  योगेंद्र नाथ



************************************************************************
English Translation


                                    "Penman" (poem)


Whoever is a Penman
It is wrong somewhere.
The crime is just this,
Everyone considers himself

The secret is hidden deep in the garage,
Becoming ignorant forgets to test.
He sometimes injures himself,
Sometimes laughs a lot.

Searchers find faults in it,
For the same reason,
Sometimes it tells.
Immersed in the depths of the heart,
The pen keeps on driving.

 The world has a lot of eyes,
Keeps some medicine to smile.
Learn letters, read pages of life,
Spreading with ink, teaches something.

With renewed hope,
He brings new dreams every day,
He does not feel seeing it
It also spreads a fragrant aroma in the fall.
To what extent can tolerance
Shades the pages of life.

Only those who understand
Which is closer to pain.
Hides what he has to hide
Saying that the moon is stained,
He shows.

Smile and bear the sorrow of life,
Do not understand the way,
Still shows.
                                                  Yogendra Nath





*********************************************************************************